Ek Rang Hota Hai Neela

Meera Sikri

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
180.00 162 + Free Shipping


  • Year: 2015

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Arya Prakashan Mandal

  • ISBN No: 9789384788148

यात्राएं मनुष्यता का विस्तार करती है। सभ्यता और संस्कृति के जाने कितने सूत्र यात्राओं से जुड़े है। अनुभव, बोध और वैविध्य का सहज समावेश जीवन को प्रशस्त बनाता है; यात्राएं यह अवसर भी देती हैं। 'एक रग होता है नीला' मीरा सीकरी का यात्रा संस्मरण है।
मीरा सीकरी एक संवेदनशील रचनाकार के रूप में जानी जाती है। स्वाभाविक है कि जब एक रचनात्मक व्यक्ति यात्रा करता है तो केवल भूगोल में प्रवेश या पदार्पण नहीं करता। वह जीवन के न जाने कितने व्यक्त अकथनीय आयामों में यात्रा कर आता है। इस यात्रा संस्मरण में केन्या, अमेरिका, मलेशिया, मॉरीशास के साथ पोर्ट ब्लेयर, लेह-लद्दाख, केरल, अमरकंटक, पांडिचेरी, बनारस आदि से जुड़ी बातें हैं। इन देशी-विदेशी स्थलों पर घूमते हुए वहीं के तमाम प्रसिद्ध प्राकृतिक वैभव का साक्षात्कार करते हुए और समय के कई सिरों को एक जगह मिलते देखते हुए लेखिका एक अनिर्वचनीय आनंद में खो जाती है। लेखिका का विचारशील मन जाने कहां-कहां घुम आता है। वह आलोचनात्मक मन भी है और सौंदर्य-प्रेमी भी। एक जगह मीरा सीकरी लिखती है, 'पोर्ट ब्लेयर की भूमि अपने जख्मों को लाख छिपाने की कोशिश करे, वे छिप नहीं पाते। यद्यपि वे जख्म सूख गए हैं, पर उनके दाग यह बता रहे हैं कि यहां को सांस तो सामान्य हो चुकी है, पर उसके साथ निकलती टीस की ध्वनि को सुने बिना आप रह नहीं सकते।' ये ध्वनियां  वही व्यक्ति सुन सकता है जिसके भीतर इतिहासबोध हो। कहना जरूरी है कि मीरा सीकरी ने देश और काल का तार्किक साक्षात्कार किया है।
यह पुस्तक उस तरह की डायरी नहीं जिसमें अव्यर्थ और व्यर्थ सब टंका रहता है। इसमें वे अंश है जो भावनात्मक तीव्रता के कारणा स्मृति का हिस्सा बन गए हैँ।

Meera Sikri

मीरा सीकरी
जन्म : 2 जून, 1941 , गुजरां-वाला ( प. पाकिस्तान)
शिक्षा : दिल्ली विश्वविद्यालय के इंद्रप्रस्थ कॉलिज से 1962 में हिंदी साहित्य में एम. ए. और 1972 में 'नयी कहानी' शोधकार्य यर पी-एच. डी.
प्रकाशित रचनाएं : 'पैंतरे तथा अन्य कहानियां', 'अनकही', 'बलात्कार तथा अन्य कहानियाँ', 'प्रेम कहानियां' , 'मीरा सीकरी की यादगारी कहानियां', 'संकलित कहानियाँ', 'तप्त समाधि तथा अन्य कहानियां' (कहानी संकलन) ०  'गलती कहां?', 'अनुपस्थित' (उपन्यास) ० 'नयी कहानी' (आलोचना) ०  पैंतीस-चालीस कविताएं, कूछ समीक्षात्मक आलेख तथा संस्मण एवं यात्रा संस्मरण प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित
पुरस्कार-सामान : 'बलात्कार तथा अन्य कहानिया' हिंदी अकादमी दिल्ली द्वारा वर्ष 2002-03 के कृति सम्मान से सम्मानित, 'अनुपस्थित' अखिल भारतीय लेखिका मंच 'ऋचा' द्वारा वर्ष 2007-08 के लेखिका रत्न सम्मान से सम्मानित;

Scroll