Dus Pratinidhi Kahaniyan : Mohan Rakesh (Paperback)

Mohan Rakesh

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
90 + Free Shipping


  • Year: 2016

  • Binding: Paperback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 978-81-7016-546-0

दस प्रतिनिधि कहानियाँ : मोहन राकेश
'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ 'किताबघर' की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
'किताबघर' गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए अग्रज कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कथाकार मोहन राकेश ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'सीमाएँ', 'मलबे का मालिक', 'उसकी रोटी’, 'अपरिचित', ‘क्लेम', 'आर्दा', 'रोज़गार', 'सुहागिनें', 'गुनाह बेलज्जत' तथा 'एक ठहरा हुआ चाकु' ।
हमेँ विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात कथाकार मोहन राकेश की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।

Mohan Rakesh

मोहन राकेश जन्म : 8 जनवरी, 1925, जंडीवाली गली, अमृतसर (पंजाब) शिक्षा : संस्कृत में शास्त्री, अंग्रेजी में बी०ए०, संस्कृत और हिंदी में एम०ए० जीविका : लाहौर, मुंबई, शिमला, जालंधर और दिल्ली में फिल्म-रेडियो लेखन, अध्यापन, अनुवाद, संपादन जैसी अल्पकालिक विभिन्न नौकरियाँ करते हुए, अंततः स्वतंत्र लेखन निधन : 3 दिसंबर, 1972, दिल्ली कृतियां : 'अंधेरे बंद कमरे', 'न आने वाला कल', 'अंतराल' (उपन्यास); 'आषाढ़ का एक दिन', 'लहरों के राजहंस', 'आधे अधूरे', 'पैर तले की ज़मीन' (नाटक), 'अंडे के छिलके', 'अन्य एकांकी तथा बीज नाटक' एकांकी-लघु नाटक); रात बीतने तक तथा अन्य ध्वनि-नाटक' (रेडियो नाटक); 'इंसान के खँडहर', 'नये बादल', 'जानवर और जानवर', 'एक और जिंदगी', 'फौलाद का आकाश', 'एक घटना’ (कहानी-संग्रह), 'बकलम खुद', 'परिवेश', 'साहित्यिक और सांस्कृतिक दृष्टि' (निबंध साक्षात्कार), 'मोहन राकेश की डायरी' (डायरी), 'आखिरी चट्टान तक' (यात्रा-वृत्त), 'बिना हाड़-मांस के आदमी' (बाल-साहित्य), 'शाकुंतला', 'मृच्छकटिका', 'एक औरत का चेहरा' (अनुवाद) 'राकेश और परिवेश : पत्रों में तथा पुनश्च’ (पत्र-साहित्य) सं० जयदेव तनेजा, 'एकत्र' (राकेश की अप्रकाशित एवं असंकलित रचनाएं) सं० जयदेव तनेजा ।

Scroll