Dus Pratinidhi Kahaniyan : Qurratulain Hyder (Paperback)

Qurratulain Hyder

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
150 + Free Shipping


  • Year: 2014

  • Binding: Paperback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 978-81-908204-6-2

दस प्रतिनिधि कहानियाँ : कुर्रतुलऐन हैदर
'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार कुर्रतुलऐन हैदर ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'अगले जनम मोहे बिटिया न कीजो', 'फोटोग्राफ़र', 'कारमिन', 'पतझड़ की आवाज़', 'जुगनुओं की दुनिया', 'कलंदर', 'कोहरे के पीछे', 'कुलीन', 'डालनवाला' तथा 'यह दाग-दाग उजाला' ।
हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक कुर्रतुलऐन हैदर की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।

Qurratulain Hyder

कुर्रतुलऐन हैदर

जन्म : सन् 1927

एम०ए० (अंग्रेजी साहित्य, लखनऊ विश्वविद्यालय, 1947) करने के बाद लंदन में रहकर 'डेली टेलीग्राफ' और बी०बी०सी० में संवाददाता का काम किया (1950-64) । स्वदेश लौटकर 'इम्प्रिंट ' (बंबई) के प्रबंध संपादक पद पर रहीं । 'इलस्ट्रेटेड वीकली ऑफ इंडिया' के संपादन विभाग में काम किया (1967-74) । फिल्म सेंसर बोर्ड की सलाहकार (1975-76) और अलीगढ़ विश्वविद्यालय की विजिटिंग प्रोफेसर (1981-82) रहीं । 'पतझड़ की आवाज' (कहानी-संग्रह) पर साहित्य अकादेमी पुरस्कार (1967), अनुवाद कार्य पर सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार (1969), गालिब अवार्ड (1985), इकबाल सम्मान (1987) । 1989 में भारतीय साहित्य में योगदान के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार ।

स्मृति-शेष : 21 अगस्त, 2007, नई दिल्ली

Scroll