Idhar Ki Hindi Kavita

Ajit Kumar

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
100.00 90 + Free Shipping


  • Year: 1999

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 978-81-7016-452-4

‘कविता का जीवित संसार’ (1972) के बाद ‘इधर की हिंदी कविता’ (1999) अजित कुमार के लेखों का दूसरा संग्रह है। कविता की अपनी व्याख्या को उन्होंने पहले संग्रह में ‘स्नेहमयी व्याख्या’ नाम दिया था, जिसका मतलब कुछ लोगों ने यह निकाला कि कविता उनके लिए एक घरेलू मामला है।
अब यदि वे ‘इधर की हिंदी कविता’ प्रकाशित कर रहे हैं तो पहला प्रश्न यही उठेगा कि ‘इधर’ की व्याप्ति किधर तक है? इसका एक उत्तर यह होगा कि ‘इधर’ वहां तक है, जहां से ‘उधर’ शुरू होता है। उत्तर और भी हो सकते हैं, वैसे ही जैसे कि प्रश्न अनेक होंगे।
उनमें से किन्हीं को समझने और अपने तईं सुलझाने की कोशिश इन लेखों में हुई है। संभव है, वह आधी-अधूरी कोशिश हो, जिसका कुछ कारण इस स्थिति में देखा जा सकता है कि अजित कुमार अपने को समीक्षकों के बीच कवि और कवियों के बीच समीक्षक पाते रहे हैं। संभव तो यह भी है कि इसी नाते उन्हें निराला प्रिय हों, जिनका खयाल था-
‘बाहर मैं कर दिया गया हूं।
भीतर, पर, भी दिया गया हूं।’
कौन जाने, अपठनीयता की मारा-मारी में पठनीयता का यह हस्तक्षेप दमघोंटू माहौल में ताजी हवा के एक झोंके-सा मालूम हो।

Ajit Kumar

अजितकुमार पूरा नाम : अजितकुमार शंकर चौधरी जन्म : 9 जून, 1933, लखनऊ शिक्षा : इलाहाबाद विश्वविधालय से हिंदी में उच्च शिक्षा कार्य : पहले डी०ए०वी० कॉलेज, कानपुर (1953-56), फिर किरोडीमल कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय (1962-1998) में अध्यापन, बीच की अवधि में विदेश मंत्रालय, नई दिल्ली (1956-1962) के हिंदी विभाग में अनुवाद । अब सेवानिवृत्त और लेखन में संलग्न । तिथिक्रम में प्रकाशन : स्वतंत्र लेखन : 'अकेले कंठ की पुकार' (कविता : 1958), 'अंकित होने दो' (विविधा : 1962), 'ये फूल नहीं' (कविता : 1970), "कविता का जीवित संसार' (आलोचना : 1972), 'छाता और चारपाई' (कहानियां : 1986), 'सफ़री झोले में', (यात्रा : 1986), 'घरौंदा' (कविता : 1987), 'हिरनी के लिए' (कविता : 1993), 'छुट्टियां' (उपन्यास : 1994), "यहां से कहीँ भी' (यात्रा : 1997), 'घोंघे' (कविता : 1996), 'इधर की हिंदी कविता' (आलोचना : 1999), 'ऊसर' (कविता : 2001), 'कविवर बच्चन के साथ' (अंकन : 2009), 'अंधेरे से जुगनू' (संस्मरण : 2010), 'सफरी झोले में कुछ और' (यात्रा : 2010), 'अजितकुमार रचना-संचयन' (2011), दिल्ली हमेशा दूर' (2012), ‘दूर वन से निकट वन में' (2012) । संपादन : 'बच्चन निकट से' (संस्मरण : 1968), 'कविताएं' (1954, 1963, 1964, 1965), 'हिंदी की प्रतिनिधि श्रेष्ठ कविताएं' (1, 2, 3), 'समीक्षायन' (1965), 'गद्य की पगडंडियां' (1967), "आचार्य शुक्ल विचारकोश' (1974), "बच्चन रचनावली' (नौ खंडों से बच्चन-समग्र : 1983), 'सुमित्रा कुमारी सिन्हा रचनावली' (1990), 'बच्चन के चुने हुए पत्र' (2001), 'कीर्ति चौधरी की कविताएं' (2006), ‘कीर्ति चौधरी की कहानियां' (2006), 'समग्र कविताएं' कीर्ति चौधरी (2010), 'नागपूजा और ओंकारनाथ की अन्य कहानियां' (2010), 'बच्चन कं साथ क्षण-भर' (संचयन : 2010), 'दुनिया रंग-बिरंगी' (2011) ।

Scroll