Sulagati Inton Ka Dhuaan

Poonam Singh

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
250.00 225 +


  • Year: 2017

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Arya Prakashan Mandal

  • ISBN No: 978-93-84788-41-4

सुलगती ईंटों का धुआं कहानीकार पूनम सिंह का नया संग्रह है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं मंे प्रकाशित इन कहानियों को पर्याप्त लोकप्रियता प्राप्त हो चुकी है। पूनम सिंह नए बनते समाज को आलोचनात्मक दृष्टि के साथ कहानियों के कंेद्र में रखती हैं, यह एक सामान्य कथन है। यह उपयुक्त कथन है कि वे भाषा और शैली से पाठक के मन में भी खुशी और खलिश पैदा कर देती हैं। विकास के नाम पर लुटती जमीन, परंपरा और अस्मिता विमर्श से जूझती स्त्री, जिम्मेदारियों से घिरा ‘नैतिक बेरोजगार’, ग्रहों के अंधविश्वास में उलझे आधुनिक, उत्पीड़न के विरुद्ध उठ खड़ी हुईं स्त्रियां, अकेलेपन से आक्रांत व आत्मीयता को तलाशती वृद्धवस्था और व्यवस्था के खिलाफ एकजुट जनता-इन कहानियों के यही सूत्र-संदर्भ हैं। देखा जाए तो रचनाशीलता को चारों तरफ से घेरे इन सूत्र-संदर्भों को पूनम सिंह ने अपने रचाव से विशेष बना दिया है। उनमें स्थानीयता का एक मोहक अंदाज है। यह अंदाज केवल भाषा में ही नहीं, कहानी कहने के मिजाज में भी समाया है। इन कहानियों के कई चरित्र मन में कहानी समाप्त हो जाने के बाद भी उद्विग्न रहते हैं। कहानी पाठक के मन में दुबारा-तिबारा लिखी जाती है शायद।

Poonam Singh

पूनम सिंह
शिक्षा: एम० ए० , पी-एच० डी० 
प्रकाशित रचनाएँ: ‘हंस’, ‘अक्षरा’, ‘वर्तमान साहित्य’, ‘वागर्थ’, ‘वसुधा’, ‘जनमत’, ‘बेला’, ‘अभिधा’, ‘पुरुष’, ‘आवर्त’, ‘प्रगतिशील आकल्प’, ‘संप्रति पथ’, ‘परिकथा’, ‘पाखी’, ‘चक्रवाक’, ‘दोआबा’, ‘अभिनव कदम’, ‘छपते- छपते’, ‘आधी जमीन’, ‘कलरव’, ‘हिंदुस्तान’, ‘दैनिक जागरण’, ‘न्यूज ब्रेक’, ‘आज’, ‘आर्यावर्त’ आदि पत्र- पत्रिकाओं में निरंतर कविताएँ, कहानियाँ, लेख प्रकाशित।
प्रकाशित कृतियाँ: ‘ऋतुवृक्ष’, ‘लेकिन असंभव नहीं’ (कविता-संग्रह) ०  ‘कोई तीसरा’, ‘कस्तूरीगंध तथा अन्य कहानियाँ’ (कहानी-संग्रह) ०  ‘धर्मवीर भारती की काव्य- चेतना’ (आलोचना)।
पुरस्कार एवं सम्मान: ‘हिंदुस्तान’ दैनिक द्वारा आयोजित कहानी प्रतियोगिता में ‘कोई तीसरा’ कहानी पुरस्कृत (1994) ०  ‘पद्मरागा सम्मान’ (2004) रामइकबाल सिंह ‘राकेश’ स्मृति समिति, मुजफ्फरपुर द्वारा ०  साहित्य साधना सम्मान (2006) शाद अजीमाबादी स्टडी सर्किल, नवशक्ति निकेतन, पटना द्वारा।
संपादन एवं संकलन: ‘सामु’ (साक्षर मुजफ्फरपुर) गीतों का संकलन एवं संपादन ०  ‘साक्षरता’ पत्रिका (इजोरिया) में संपादन सहयोग ०  ‘नई आकृति’ (साहित्यिक पत्रिका) में संपादन सहयोग ०  ‘आवत्र्त’ (साहित्यिक पत्रिका) में सह-संपादक।
संप्रति: अध्यापन, हिंदी विभाग, एम० डी० डी० एम०  कालेज, मुजफ्फरपुर, बिहार।

Scroll