Dus Pratinidhi Kahaniyan : Rita Shukla

Rita Shukla

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
350.00 280 + Free Shipping


  • Year: 2015

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9789385054334

'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार ऋता शुक्ल ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'प्रतीक्षा', 'छुटकारा', 'देस बिराना', 'विकल्प', 'जीवितोअस्मि…!', 'रामो गति देहु सुमति...', 'निष्कृति', 'सलीब पर चढे सूरज का सच', 'उबिठा बनाम उभयनिष्ठा...' तथा 'हबे, प्रभात हबे' ।
हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखिका ऋता शुक्ल की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।

Rita Shukla

ऋता शुक्ल जन्म : 14 नवंबर, 1949, डिहरी ऑन-सोन शिक्षा : स्नातक हिंदी प्रतिष्ठा (मगध विश्वविद्यालय, 1967) विशिष्टता सहित प्रथम श्रेणी में प्रथम तथा स्वर्ण पदक प्राप्त। 'हिंदी कहानी के विकास में महिला कथाकारों का योगदान' विषय पर 1982 में पी-एच. डी. की उपाधि लेखन : 'कल्पना', 'ज्योत्स्ना', 'धर्मयुग', 'सारिका', 'रविवार', 'कहानी', 'हंस', 'नई धारा" आदि प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में दो सौ से अधिक कविताएं, कहानियां, उपन्यास, वैचारिक आलेख प्रकाशित । अनेक कहानियों का भारतीय तथा विदेशी भाषाओं में अनुवाद। आकाशवाणी तथा दूरदर्शन से नाटकों, धारावाहिकों, टेलीफिल्मों का प्रसारण प्रमुख प्रकाशित कृतियाँ : क्रौंचवध तथा अन्य कहानियां, दंश, शेषगाथा, कायांतरण, मृत्युगंध जीवनगंध, मानुसतन, कासी कहों मैं दरदिया, भूमिकमल (कहानी संग्रह); अग्निपर्व, समाधान, कनिष्ठा उगती का पाप, बांधो न नांव इस ठांव, अरूंधती, कितने जनम वैदेही, कब आओगे महामना (उपन्यास) सम्मान : ' क्रौंचवध तथा अन्य कहानियां' पर भारतीय ज्ञानपीठ युवा कथा सम्मान; अनेक कहानियों पर आधारित धारावाहिकों एवं टेलीफिल्मों का निर्माण; निखिल भारतीय बंग साहित्य सम्मेलन द्वारा बंगला भाषा की सेवा का विशिष्ट सम्मान, उत्तर प्रदेश केंद्रीय हिंदी संस्थान का लोकभूषण सम्मान; राधाकृष्ण सम्मान, 'नई धारा' रचना सम्मान; प्रसार भारती हिंदी सेवा सम्मान; थाईलैंड पत्रकार दीर्घा सम्मान संप्रति : निदेशक संस्कार पब्लिक स्कूल, जाजपुर, सपारोम, रांची, झारखंड

Scroll