Mere Saakshatkaar : Nirmal Verma

Nirmal Verma

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
195.00 176 + Free Shipping


  • Year: 2010

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9788170164449

Nirmal Verma


निर्मल वर्मा

जन्म : 1929 ।
जन्म-स्थान : शिमला ।
शिक्षा : सेंट स्टीफेंस कॉलेज, दिल्ली से इतिहास में एम०ए० । कुछ वर्ष अध्यापन ।

1959 से प्राग, चेकोस्लोवाकिया के प्राच्यविद्या संस्थान और चेकोस्लोवाकिया लेखक संघ द्वारा आमंत्रित । सात वर्ष चेकोस्लोवाकिया से रहे और कई  चेक कथाकृतियों के अनुवाद किए । कुछ वर्ष लंदन में यूरोप-प्रवास के दौरान टाइम्स ऑफ़  इंडिया के लिए वहाँ की सांस्कृतिक-राजनीतिक समस्याओं पर लेख और रिपोर्ताज लिखे । 1972 में वापसी। इंडियन  इंस्टीट्यूट ऑफ़ एडवान्स्ड स्टडीज़ (शिमला) में फेलो रहे और मिथक-चेतना पर कार्य किया । 1977 से इंटरनेशनल राइटिंग प्रोग्राम, आयोवा (अमेरिका) में हिस्सेदारी।  'मायादर्पण' कहानी पर फ़िल्म बनी, जिसे 1973 का सर्वश्रेष्ट हिंदी फिल्म पुरस्कार प्राप्त हुआ । निराला सृजनपीठ, भोपाल (1981-83) और यशपाल सृजनपीठ, शिमला (1989) के अध्यक्ष। 1987 से इंग्लैंड के प्रकाशक रीडर्स इंटरनेशनल द्वारा निर्मल वर्मा की कहानियों का संग्रह "द वर्ड एल्सव्हेयर' प्रकाशित । उसी अवसर पर उनके व्यक्तित्व पर बी०बी०सी० चैनल 4 पर एक फिल्म प्रसारित व इंस्टीट्यूट ऑफ़ कॉनटैम्परेरी आर्ट्स (आई०सी०ए०) द्वारा अपने वीडियो संग्रहालय के लिए उनका एक लंबा इंटरव्यू रिकॉर्डिंग । 'कव्वे और काला पानी' पुस्तक साहित्य अकादेमी पुरस्कार (1985) से सम्मानित । संपूर्ण कृतित्व के लिए 1993 का साधना सम्मान । उ०प्र० हिंदी संस्थान का सर्वोच्च राममनोहर लोहिया अतिविशिष्ट सम्मान (1995) । भारतीय ज्ञानपीठ का मूर्तिदेवी पुरस्कार (1997)। 
प्रकाशित पुस्तकें : वे दिन ० लाल टीन की छत ० एक चिथड़ा सुख ० रात का रिपोर्टर (उपन्यास); परिंदे ० जलती झाड़ी ० पिछली गर्मियों में ० कव्वे और काला पानी ० प्रतिनिधि कहानियां ० मेरी प्रिय कहानियाँ ० बीच बहस में ० सूखा तथा अन्य कहानियां (कहानी-संग्रह); चीडों पर चाँदनी ० हर बारिश में (यात्रा-संस्मरण); शब्द और स्मृति ० कला का जोखिम ० ढलान से उतरते हुए ० भारत और यूरोप : प्रतिश्रुति के क्षेत्र ० शताब्दी के ढलते वर्षों में (निबंध); तीन एकांत (नाटक); दूसरी दुनिया (संचयन)।  अंग्रेजी में अनूदित : डेज़ ऑफ़ लॉगिंग ० डार्क डिस्पैचेज़ ० ए रैग  हैप्पीनेस (उपन्यास); हिल स्टेशन ० क्रोज़ ऑफ़ डिलीवरेंस ० ट वर्ल्ड एल्सव्हेयर ० सच ए विग इयरनिंग (कहानियाँ); वर्ल्ड एंड मेरी (निबंध); हिंदी से अनूदित : कुप्रीन की कहानियां ।

स्मृति-शेष : 25 अक्तूबर, 2005

Scroll