Kavi Ne Kaha : Ashok Vajpayee

Ashok Vajpayee

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
190.00 171 + Free Shipping


  • Year: 2014

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9789383233328

लगभग एक हजार लिखी गई कविताओं से कुछ चुनना स्वयं कवि के लिए मुश्किल काम है। एक अधसदी भर कविता लिखने और कविता के लिए अपने समय और समाज में थोड़ी सी जगह बनाने की कोशिश करते हुए उसकी रुचि और दृष्टि बदलती रही है। फिर अगर आप कविता लिखने के अलावा आलोचना भी लिखते हों, जो कि मैं करता रहा हूँ, तो मुश्किल और बढ़ जाती है। आपको रुचि और दृष्टि की अपार बहुलता से निपटना पड़ता है। आप कितने ही तीख़े आत्मालोचक क्यों न हों जो आपको प्रिय लगता हो वह जरूरी नहीं कि महत्त्वपूर्ण भी हो या कि वस्तुनिष्ठ ढंग से ऐसा माना जा सके। स्वयं कवि के अपनी कविता को लेकर भी पूर्वग्रह होते हैं और उनमें से कई जीवन भर उसका साथ नहीं छोड़ते। इस संचयन में वे सक्रिय नहीं होंगे इसकी संभावना नहीं है। फिर भी प्रयत्न यह है कि कई रंगों की कविताएँ उसमें आ जाएँ।
बाकी सब तो कविताएँ ही अपने ढंग से कहेंगी: उनके बारे में कवि को संभव हो तो चुप ही रहना चाहिए। अकसर कविताएँ कवि से अधिक जानती हैं; अपने रचयिता से। इतना भर इस मुकाम पर कहा जा सकता है कि ज्यादातर एक ऐसे समय और समाज में जो कविता से कोई उम्मीद नहीं लगाता और अकसर उसकी अनसुनी-अनदेखी ही करता है, कविता में विश्वास बना रहा है।
-लेखक

Ashok Vajpayee

अशोक वाजपेयी
जन्म: 16 जनवरी, 1941
भाषा-दक्षता: अंग्रेजी एवं हिंदी, संस्कृत एवं उर्दू की भी जानकारी
प्रकाशन: हिंदी में कविता एवं आलोचना की 38 पुस्तकें। बांग्ला, मराठी, गुजराती, राजस्थानी, उर्दू, अंग्रेजी एवं पोलिश में 8 पुस्तकें अनूदित
हिंदी एवं अंग्रेजी में 8 पत्रिकाएँ संपादित-समवेत, पहचान, पूर्वग्रह, समास, बहुवचन (सभी हिंदी), बहुवचन, कविता एशिया एवं हिंदी (सभी अंग्रेशी)
महत्त्वपूर्ण समाचार-पत्रों-टाइम्स ऑफ इंडिया, हिंदुस्तान टाइम्स, पायनियर, द हिंदू, द वीक, नई दुनिया, जनसत्ता, नवभारत टाइम्स आदि में रचनात्मक योगदान
अंग्रेशी, फ्रेंच, जर्मन, रूसी, स्पानी, हंगारी, नार्वेजियन, अरबी, पोलिश, बांग्ला, कन्नड़, मराठी, पंजाबी, असमिया व स्वीडी इत्यादि में कविताएँ व लेख अनूदित एवं प्रकाशित।
पुरस्कार: कविता के लिए दयावती मोदी कवि शेखर सम्मान (1994); कविता-संग्रह 'कहीं नहीं वहीं' के लिए साहित्य अकादेमी, राष्ट्रीय पुरस्कार (1994); अज्ञेय राष्ट्रीय सम्मान (1997); हिंदी साहित्य को योगदान के लिए; ऑफिस ऑफ द आर्डर ऑफ क्रास (2004), पोलैंड गणराज्य; ऑफिसर डे ल' ऑर्डर देस आर्ट्स एट देस लेटर्स (2005), फ़्रांस गणराज्य; कबीर सम्मान, (2006) मध्य प्रदेश शासन; डी.लिट् (मानद) (2011), केंद्रीय विश्वविद्यालय, हैदराबाद।

Scroll