Yahaan Se Kahin Bhi

Ajit Kumar

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
50.00 45 + Free Shipping


  • Year: 1997

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9788170163909

यहाँ से कहीं भी
'सफ़री झोले में' के बाद 'यहाँ से कहीं भी' अजितकुमार की यात्राओं का दूसरा संग्रह है । उनकी कविता ही नहीं, समीक्षा-कहानी-उपन्यास संरमरणादि के भी पाठक जानते है कि अजितकुमार विधाओं की जकड़बंदी म नहीं फंसते। लेखन उनके लिए कोई समर-भूमि नहीं, जहाँ जिरह-बख्तर से लेख वे लगातार तलवार  भाँजने रहें या अंतरिक्ष-यात्री का लबादा ओढ़ लंबे सफ़र पर निकल पडे ।  वह उनके लिए संवाद का सरल माध्यम है, कभी-कभी तो अपने-आप में ही संवाद का।  एक रंग के भीतर मौजूद तमाम रंग जैसे इंद्रधनुष में बिखर उठते है, कुछ-कुछ वैसा ही दृश्य— डायरी, टीप, रेखाचित्र, आत्मकथा, रपट, वार्ता जैसे  बहुत कुछ को झलकाता यात्रावृत्तों में मिलेगा।  जटिल या सरल, वह दृश्य जैसा भी है— यदि आपके लिए भी प्रीतिकर हुआ तो इम कामना की संभावना रहेगी कि जैसे उनके यात्रा-दिन बहुरे, वैसे आपके भी बहुरें । 

Ajit Kumar

अजितकुमार पूरा नाम : अजितकुमार शंकर चौधरी जन्म : 9 जून, 1933, लखनऊ शिक्षा : इलाहाबाद विश्वविधालय से हिंदी में उच्च शिक्षा कार्य : पहले डी०ए०वी० कॉलेज, कानपुर (1953-56), फिर किरोडीमल कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय (1962-1998) में अध्यापन, बीच की अवधि में विदेश मंत्रालय, नई दिल्ली (1956-1962) के हिंदी विभाग में अनुवाद । अब सेवानिवृत्त और लेखन में संलग्न । तिथिक्रम में प्रकाशन : स्वतंत्र लेखन : 'अकेले कंठ की पुकार' (कविता : 1958), 'अंकित होने दो' (विविधा : 1962), 'ये फूल नहीं' (कविता : 1970), "कविता का जीवित संसार' (आलोचना : 1972), 'छाता और चारपाई' (कहानियां : 1986), 'सफ़री झोले में', (यात्रा : 1986), 'घरौंदा' (कविता : 1987), 'हिरनी के लिए' (कविता : 1993), 'छुट्टियां' (उपन्यास : 1994), "यहां से कहीँ भी' (यात्रा : 1997), 'घोंघे' (कविता : 1996), 'इधर की हिंदी कविता' (आलोचना : 1999), 'ऊसर' (कविता : 2001), 'कविवर बच्चन के साथ' (अंकन : 2009), 'अंधेरे से जुगनू' (संस्मरण : 2010), 'सफरी झोले में कुछ और' (यात्रा : 2010), 'अजितकुमार रचना-संचयन' (2011), दिल्ली हमेशा दूर' (2012), ‘दूर वन से निकट वन में' (2012) । संपादन : 'बच्चन निकट से' (संस्मरण : 1968), 'कविताएं' (1954, 1963, 1964, 1965), 'हिंदी की प्रतिनिधि श्रेष्ठ कविताएं' (1, 2, 3), 'समीक्षायन' (1965), 'गद्य की पगडंडियां' (1967), "आचार्य शुक्ल विचारकोश' (1974), "बच्चन रचनावली' (नौ खंडों से बच्चन-समग्र : 1983), 'सुमित्रा कुमारी सिन्हा रचनावली' (1990), 'बच्चन के चुने हुए पत्र' (2001), 'कीर्ति चौधरी की कविताएं' (2006), ‘कीर्ति चौधरी की कहानियां' (2006), 'समग्र कविताएं' कीर्ति चौधरी (2010), 'नागपूजा और ओंकारनाथ की अन्य कहानियां' (2010), 'बच्चन कं साथ क्षण-भर' (संचयन : 2010), 'दुनिया रंग-बिरंगी' (2011) ।

Scroll