Aalochna Ka Samay

Dr. Jyotish Joshi

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
320.00 266 + Free Shipping


  • Year: 2013

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9789383233229

आलोचना का समय ग्यारह महत्त्वपूर्ण लेखकों के साहित्यिक अवदान को रेखांकित करने का प्रयत्न है जिसमें उनके ‘रचना समय’ के साथ ‘आज के समय’ को देखने की कोशिश की गई है। आलोचना महज रचना के बोध और अर्थ को समझने वाली विध ही नहीं होती, वह अपने समय की रचनाशीलता को अपने वर्तमान की चुनौतियों में देखती है और इस तरह एक विमर्श को भी जन्म देती है। पुस्तक में रवीन्द्रनाथ ठाकुर, जैनेन्द्र कुमार, अज्ञेय, केदारनाथ अग्रवाल, शमशेर बहादुर सिंह, नेमिचन्द्र जैन, केदारनाथ सिंह, भुवनेश्वर, सुदामा पांडेय ‘धूमिल’, मैनेजर पांडेय तथा उदय प्रकाश जैसे लेखकों के अवदान को रेखांकित करते हुए उनके उन पक्षों को विशेष रूप से विवेचन का आधर बनाया गया है जिनके कारण उनकी महती उपादेयता है। विवेच्य लेखकों में मूल रूप से रचनाकार और आलोचक दोनों हैं जो अपने लेखन में ‘समय’ को देखते हैं तथा समय की अपेक्षाओं के अनुरूप अपने लेखकीय दायित्व का निर्वाह करते हैं।
अपनी प्रतिष्ठा के अनुरूप आलोचक डॉ. ज्योतिष जोशी ने बहुत मनोयोग से पुस्तक में कृती लेखकों के योगदान को विवेचित किया है। इसमें उनकी भाषा, विवेचन की पद्धति तथा अपने समय की चुनौतियों से टकराने की दृष्टि आपको बहुत प्रभावित करेगी। कहना न होगा कि यह कृति पठनीय ही नहीं वरन् संग्रहणीय भी है।

Dr. Jyotish Joshi

डॉ. ज्योतिष जोशी
जन्म: 6 अप्रैल; बिहार के गोपालगंज जिले के एक गांव धर्मगता में।
शिक्षा: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से एम.फिल. तथा पी-एच.डी.।
प्रकाशित पुस्तकें: आलोचना की छवियां, विमर्श और विवेचना, संस्कृति विचार, पुरखों का पक्ष, साहित्यिक पत्रकारिता, उपन्यास की समकालीनता, जैनेन्द्र और नैतिकता, शमशेर का अर्थ, कृति आकृति, रूपंकर, भारतीय कला के हस्ताक्षर, आधुनिक भारतीय कला, नेमिचन्द्र जैन, रंग विमर्श (आलोचना); सोनबरसा (उपन्यास); सम्यक्, जैनेन्द्र संचयिता, विध की उपलब्धि त्यागपत्र, आर्टिस्ट डायरेक्ट्री, भारतीय कला चिंतन- शृंखला---कला विचार, कला परंपरा, कला पद्धति; प्रतीक-आत्मक (दो खंड), केदारनाथ अग्रवाल रचना संचयन (संपादन)।
सम्मान/पुरस्कार: अनेक सम्मानित शिक्षावृत्तियों के अलावा इनको बिहार राष्ट्रभाषा परिषद्, पटना का साहित्य सेवा सम्मान, हिंदी अकादमी, दिल्ली का साहित्यिक कृति सम्मान तथा आलोचना में उत्कृष्ट योगदान के लिए देवीशंकर अवस्थी तथा प्रमोद वर्मा आलोचना सम्मान आदि मिल चुके हैं।

Scroll