Nadi Ke Saath Bahate

P.S. Ramanunj

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
65.00 59 + Free Shipping


  • Year: 1998

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Bhartiya Prakashan Sansthan

  • ISBN No: 3388449911223

'नदी के साथ बहते' श्री पी०एस० रामानुजं की कन्नड़ कविताओं का हिन्दी में श्री टी०आर० भट्ट द्वारा प्रस्तुत हिन्दी काव्यान्तर है । प्रसन्नता की बात है कि काव्यांतर  की भाषा अनुवाद जैसी नहीं लगनी प्रत्युत मौलिक कविता लगती है। कहीं-कहीं कन्नड़ रग अवश्य है,  पर वह उचित ही है । उसमें कविता को मर्मस्पर्शिता बढ़ जानी है । श्री रामानुजं के काव्य में एक क्लासिक कविता का गुण है जिसमें भावोछवास संयत रूप में है।

P.S. Ramanunj

डॉ० पी०एस० रामानुजं 
आई०पी०एस०, एम०ए०, पी-एच०डी०, डी० लिट्० (संस्कृत)
प्रवृति : बसे, कथाकार, निबंधकार, नाटककार, संस्मरणकार, आलोचक, संशोधक एवं संगीतकार 
अब तक 28 रचनाएँ कन्नड़ में प्रकाशित तीन रचनाएँ हिंदी में प्रकाशित
पुरस्कार : 'रुचिर' काव्य-संग्रह के लिए मुद्दण साहित्यिक पुरस्कार 
पुलिस विभाग में राष्ट्रपति प्रशंसनीय सेवा-पदक (1995)
'कोडवरु' शोध-आलोचना तथा 'बिल्ली की भाषा तथा अन्य निबंध' नामक निबंध-संग्रह के लिए राज्य साहित्य अकादमी पुरस्कार

Scroll