Ghanchakkar

Nisha Bhargva

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
225.00 203 + Free Shipping


  • Year: 2012

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Suhani Books

  • ISBN No: 9788180927060

व्यंग्य-लेखन की प्रवृत्ति आधुनिक युग की देन है। पिछले चंद दशकों में समाज में विषमताओं, विद्रूपताओं, विडम्बनाओं, विसंगतियों, स्वार्थपरता का जो सैलाब आया है वह अभूतपूर्व है। ऐसी परिस्थितियों में स्वाभाविक है कि जागरूक लेखक व्यंग्य की ओर उन्मुख हो । यहाँ इस ओर संकेत करना भी आवश्यक है कि व्यंग्य-साहिंत्य के क्षेत्र में लेखिकाओं की उपस्थिति जोरदार तरीके से दर्ज नहीं हो पाईं। गिनी-चुनी हास्य-व्यंग्य को बहुचर्चित कवयित्रियों में निशा भार्गव का नाम विशेष रूप से उभरकर आया है।
निशा भार्गव की कविताओं में हास्य-व्यंग्य के साथ ही एक अतिरिक्त तत्त्व भी विद्यमान है। उनकी कविता में तीखे प्रहार के साथ ही अच्छे संस्कार की पैरवी भी मौजूद है । उनकी कविताओं में सामाजिक, परिवारिक, राजनीतिक आडम्बरों को तो निपुणता के साथ बेनकाब किया ही गया है, स्वस्थ समाज के निर्माण का आह्वान भी किया गया है। उनकी रचनाएं ठोस सकारात्मक सोच से ओत-प्रोत हैं।

Nisha Bhargva

अजमेर (राजस्थान) में पली बढी निशा भार्गव ने अर्थशास्त्र में एस.ए. किया । राजस्थान विश्वविद्यालय से स्वर्णपदक जीत कर अपने विद्यालय व महाविद्यालय की सर्वश्रेष्ठ छात्रा कहलाने का गौरव प्राप्त किया । अपने महाविद्यालय से स्वर्ण एवं रजतपदक प्राप्त किये तथा आठ वर्षों तक राष्ट्रीय छात्रवृत्ति प्राप्त की ।
भूतपूर्व प्राध्यापिका एवं सदैव प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होने वाली निशा भार्गव ने अनेक पुरस्कार प्राप्त किए। विविध मंचों पर काव्यपाठ के साथ-साथ निशा भार्गव ने 1996 में राष्ट्रपति पवन में भी काव्यपाठ किया तथा भारत की प्रथम महिला श्रीमती विमला रगर्मा द्वारा सम्मानित हुई ।
'अनकहे पल' आपका सम्मिलित काव्य संग्रह है । 'उधार की मुस्कान' (2000), 'अच्छे फंसे' ( 2003) , 'चिकने घडे' (2006), 'बंटाधार' (2010) , 'घनचक्कर' (2012) हास्य व्यंग्य काव्य संग्रह हैं । 'तिनके-तिनके' (लघु कथा संग्रह) 2012 तथा 'बसंत बयार' 2012 (कहानी संग्रह) प्रस्तुत है। 
कल्पतरु संस्था दिल्ली द्वारा 1999 में 'कविता विदुषी' पुरस्कार मक्खनलाल शांतिदेवी ट्रस्ट द्वारा 2002 में हास्य-व्यंग्य लेखन हेतु सम्मानित , भारतीय साहित्यकार संसद बिहार द्वारा 2005 में 'हरिशंकर परसाई राष्ट्रीय शिखर साहित्य सम्मान', अखिल भारतीय राष्ट्रभाषा विकास संगठन एवं यू.एस.एम. पत्रिका गाजियाबाद द्वारा 2006 में सुभद्रा कुमारी चौहान स्मृति सम्मान, महिला मंगल संस्था दिल्ली द्वारा 'साहित्य प्रतिभा सामान' 2006, भारतीय साहित्यकार संसद बिहार द्वारा 2007 में काका हाथरसी साहित्य सम्मान, कवितायन संस्था द्वारा 'साहित्य सृजन सम्मान' 2011 प्राप्त हुए।
आकाशवाणी व दूरदर्शन के विविध कार्यक्रमों से लगातार जुडाव । कविता, कहानी, वार्ता, समीक्षा तथा साक्षात्कार का प्रसारण । टेलीविजन के 'वाह-वाह" कार्यक्रम (SAB), 'अर्ज किया है' (NDTV), "उठो जागो’ (प्रज्ञा टीवी) तथा दूरदर्शन की काव्यगोष्टियो में काव्य पाठ करने का अवसर मिला

Scroll