Peeth Peechhe Ki Duniya

Neelam Chaturvedi

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
200.00 180 + 40.00


  • Year: 2017

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Amarsatya Prakashan

  • ISBN No: 9789380927299

पीठ पीछे की दुनिया
कहानियां अब भावहीन हो जाना चाहती हैं। बहुत सारी आशाओं, सपनों और कसमों से जरा अलग हटकर। सांस लेना चाहती हैं। सीमाओं के परे पढ़ने वाले के अंतर्मन में पैठने वाली। नीलम की कहानियां सहजता से यह सब करती हैं। उन्होंने बातचीत की भाषा को इसके लिए चुना है। बोलने वाली भाषा। जैसा बोलते हैं वैसा ही लिखें। हू ब हू।
नीलम की कहानियां व्यंग्य का सहारा लेकर किसी चरित्र को उधेड़ती नहीं हैं। वे संबंधों को अनेक स्तरों तक ले जाने के लिए हैं। उनका ताप दफ्तरों में धीमे-धीमे सांस ले रहे लोगों को उकसाता है। बहुरंगी और मानवीय चरित्र अपने आप को कितना विचित्र बना डालने के लिए आतुर है। कहानियां यह इंगित करती हैं। पीठ पीछे की निस्संग दुनिया को देख पाना नीलम ने संभव किया है।
संबंध जब बोझ बन जाते हैं तब नैतिकता घुलने लगती है। नीलम ने बहुत साहस से, अनेक कहानियों से इसे हम तक पहुंचाया है। यहां मध्यम संगीत की अनुगूंजें हैं। जैसे जीने का विश्वास। अदम्य। अचूक। प्रेम की टूटती डोर में, अवसाद में भी यह कला, आकर्षण की ओर ले जाती है।
यह कहानी-संग्रह नए कथा क्षेत्र में सादगी, विस्तार और अनुपम अनुभवों से हमें संपन्न बनाता है।

Neelam Chaturvedi

नीलम चतुर्वेदी
जन्म: 4 दिसंबर, 1956, लखनऊ (उ. प्र.)
शिक्षा: बी.एस-सी., एम.ए. (हिंदी साहित्य)
नीलम चतुर्वेदी ने विज्ञान तथा हिंदी साहित्य में शिक्षा ग्रहण की। भारतीय प्रसारण सेवा के अंतर्गत सहायक निदेशक पद पर रहते हुए उत्तर भारत की गहरी सांस्कृतिक परंपराओं का पुनराविष्कार किया। हिंदी और उर्दू के सभी महत्त्वपूर्ण लेखकों पर केंद्रित 30 से अधिक डॉक्यूमेंट्री का निर्माण। राहुल, रामविलास शर्मा, नागार्जुन, प्रसाद, रज़ा, निराला, श्रीलाल शुक्ल, सज्जाद ज़हीर के योगदान को दूरदर्शन के लिए इतिहासबद्ध किया। निराला के ‘कुल्लीभाट’ और प्रसाद की ‘मधुआ’ पर फिल्म बनाई। वर्ष 2003 में ग़ालिब पर केंद्रित फिल्म को सर्वश्रेष्ठ कृति का दूरदर्शन पुरस्कार।
मध्यवर्गीय भारत के जीवन को बहुत करीब से देखा और अपनी कहानियों में बड़े जतन से रखा। ये कहानियां ‘धर्मयुग’ से लेकर ‘कथादेश’ तक अनेक राष्ट्रीय स्तर की पत्रिकाओं में प्रकाशित।

Scroll