Kaalchiti

Shekhar Mallik

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
350.00 280 +


  • Year: 2017

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Arya Prakashan Mandal

  • ISBN No: 978-93-84788-45-2

यह उपन्यास है...
उस हौसले और हिम्मत के लिए, 
जो अपने हक के लिए लड़ती है...
उस आदिम, जीवट, 
अथक संघर्षशीलता के लिए...
उस इनकलाबी भावना के लिए, 
जो हर दौर में जिंदा होती है...
सत्ता पोषित हिंसा के खिलाफ...
जन-विमुख, भ्रष्ट सत्ता और 
काॅरपोरेट गठबंधन के खिलाफ...
उस आततायी सत्ता के खिलाफ...
जो सोनी सोरी जैसों के खिलाफ 
घृणित षड्यंत्र रचती है!
निर्धन, निहत्थे, शांतिप्रिय आदिम 
मनुष्यों का संहार करने वाली
राजनीति के खिलाफ...!

प्रस्तुत उपन्यास अर्ध गल्प और अर्ध समकालीन यथार्थ! क्योंकि चाहे कथा और पात्रा काल्पनिक हों, कुछ घटनाएँ वास्तविकता पर आधारित हैं। पहाड़-पानी और वन एवं भूमि सहित सामान्य मनुष्यों पर बलपूर्वक अधिकार करना अनैतिक है। केवल आम जन के समसामयिक उत्पीड़न को व्यक्त करना और ऐसे हिंड्ड कृत्यों की निंदा करना ही इस रचना का एकमात्र ध्येय है। जनजातीय समुदायों, मूलवासियों और आदिम संस्कृतियों पर इस दौर में हो रहे सत्ता-पोषित दमन का प्रतिवाद करना प्रत्येक विवेकशील नागरिक का कर्तव्य है। यह गद्य-पुस्तक सर्वमान्य मानवाधिकारों, सच्चे लोकतंत्र के पक्ष में और मनुष्य की स्वतंत्रता के हनन के सभी प्रकार के कृत्यों के विरुद्ध है।

Shekhar Mallik

शेखर मल्लिक 
जन्म: 18 दिसंबर, 1978 लिलुआ (हावड़ा), पं. बंगाल
हिंदी में स्नातकोत्तर, रांची विश्वविद्यालय, रांची से शोधरत
एक कहानी संग्रह ‘अस्वीकार और अन्य कहानियां’ प्रकाशित 
हंस, प्रगतिशील वसुध, परिकथा, पाखी, शुक्रवार, दूसरी परंपरा, निकट, लमही, कथादेश आदि प्रमुख पत्रिकाओं में कहानियां व कविताएं प्रकाशित 
नेट पत्रिका नव्या, कृत्या, हिंदी कुंज, हिंदी नेस्ट,  हिंदी समय डाॅट काॅम, स्टोरी मिरर, हमरंग, गद्यकोश डाॅट आॅर्ग आदि पर रचनाएं प्रकाशित। कहानी ‘कोख बनाम पेट’ तेलुगु में अनूदित। ‘डायनमारी’ कहानी संग्रह ‘आदिवासी कहानियां’ और कोल्हान विश्वविद्यालय, चाईबासा (झारखंड) के स्नातक खंड वर्ष-2 हिंदी (प्रतिष्ठा) के पाठ्यक्रम में भी संकलित
‘हंस’ पत्रिका में ‘प्रेमचंद कथा सम्मान’ में ‘अस्वीकार’ कहानी प्रथम स्थान पर चयनित, स्पेनिन सृजन सम्मान, रांची
हिंदी युग्म वेबसाइट पर ‘यूनिकवि प्रतियोगिता’ जुलाई 2010 में कविता पुरस्कृत
प्रलेसं के लिए कुछ नुक्कड़ नाटकों का लेखन व निर्देशन

Scroll