Khilafat

Govind Mishra

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
430.00 387 +


  • Year: 2018

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 978-81-937326-1-8

‘‘अब्बा हुजूर! हम पढ़े-लिखे लोग हैं, तो कभी मज़हबी नज़रिये से थोड़ा अलग हटकर भी हमें देखना चाहिए, अपने गिरेबान में झाँकना चाहिए। दुनिया में मुसलमान जो इस वक्त एक तरह के तूफान में फँसा हुआ है, उसमें हम मुसलमानों ने ही खुद को डाला है...मिडिल ईस्ट की पाक ज़मीं पर इस्लाम के  कितने फिरके  आपस में लड़-झगड़ रहे हैं, मुसलमान ही मुसलमानों को मार रहे हैं...
हिन्दुस्तान में जिहादी, हमारे अशरफ जैसे एक-दो ही हुए। यह इसलिए कि यहाँ कितने मज़हब, कितनी जातियाँ, कितने खयालात...कितने-कितने सालों...पहले तो साथ रहने को मजबूर हुए, फिर रहने लगे, रहते-रहते एक दूसरे से लेने-देने सीखने लगे। सदियों की इस ‘चर्निंग’ को हमें पहचानना चाहिए... 
सऊदी इस्लाम की जगह हिन्दुस्तानी इस्लाम क्यों नहीं...जो हिन्दुस्तान में कुदरतन ईजाद हो चुका है...जिस तरह इतने मज़हब यहाँ साथ रहते हैं, वैसे ही इस्लाम के मुख्तलिफ फिरके मिडिल ईस्ट या कहीं भी क्यों नहीं रह सकते...’’
इस्लामिक स्टेट...अबूबकर बगदादी की ‘खिलाफत’ के परिवेश पर लिखा गया हिन्दी का पहला उपन्यास...आई.एस. सम्बन्धी विस्तृत जानकारियों के बीच, यहाँ कई अहं सवालों को उठाया गया है, जैसे कि आज अगर इस्लाम को दुनिया अपने सामने खड़ी सबसे बड़ी चुनौती को रूप में देख रही है तो क्यों...इस्लाम अमन का मज़हब है या कि जंग का...दूसरे मज़हबों की तरह वक्त के साथ-साथ इस्लाम भी क्यों नहीं बदलता या खुद को बदलने देता... नौजवानों की जि़न्दगी बेहतर बनाने की बजाय वह उन्हें जिहाद की आग में क्यों झोंक देता है, लड़कियों की शिक्षा, आज़ादी...और इस सबके नीचे अन्डरकरैन्ट की तरह कश्मीर की समस्या। 
कश्मीर की शिया लड़की, सुन्नी लड़का...दोनों में बचपन से प्रेम, उनके निष्कलुष सपने...उल्टी बहती हवा उन्हें किस तरह अपनी जद में ले लेती है और वे किस तरह बाहर निकलने की कोशिश करते हैं...अबूबकर की खिलाफत के खिलाफ उनकी खिलाफत क्या शक्ल इख्तियार करती है... 
हर बार की तरह गोविन्द मिश्र अपने इस नये उपन्यास में फिर नये परिवेश, नये विषय के साथ प्रस्तुत हैं।

Govind Mishra

गोविन्द मिश्र 1965 से लगातार और उत्तरोत्तर स्तरीय लेखन के लिए सुविख्यात गोविन्द मिश्र इसका श्रेय अपने खुलेपन को देते हैं । समकालीन कथा-साहित्य में उनकी उपस्थिति जो एक संपूर्ण साहित्यकार का बोध कराती है, जिसकी वरीयताओं में लेखन सर्वोपरि है, जिसकी चिंताएं समकालीन समाज से उठकर 'पृथ्वी पर मनुष्य' के रहने के संदर्भ तक जाती हैं और जिसका लेखन-फलक 'लाल पीली ज़मीन' के खुरदरे यथार्थ, 'तुम्हारी रोशनी में' की कोमलता और काव्यात्मकता, 'धीरसमीरे' की भारतीय परंपरा की खोज, 'हुजूर दरबार' और 'पाँच आँगनोंवाला घर’ की इतिहास और अतीत के संदर्भ में आज के प्रश्नों की पड़ताल-इन्हें एक साथ समेटे हुए है। इनकी कहानियों में एक तरफ 'कचकौंध' के गंवई गांव के मास्टर साहब हैं तो 'मायकल लोबो' जैसा आधुनिक पात्र या 'खाक इतिहास' की विदेशी मारिया भी । गोविन्द मिश्र बुंदेलखंड के हैं तो बुंदेली उनका भाषायी आधार है, लेकिन वे उतनी ही आसानी से 'धीरसमीरे' में ब्रजभाषा और 'पाँच आंगनोंवाला घर' और 'पगला बाबा' में बनारसी-भोजपुरी से भी सरक जाते हैं । प्राप्त कई पुरस्कारों/सम्मानों में 'पांच आंगनोंवाला घर' के लिए 1998 का व्यास सम्मान और 'कोहरे से कैद रंग' के लिए 2008 का साहित्य अकादेमी पुरस्कार, 2011 में उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान का भारत भारती पुरस्कार एवं 2013 का सरस्वती सम्मान विशेष उल्लेखनीय है । इन्हें राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम द्वारा भी सम्मानित किया जा चुका है । प्रकाशित रचनाएँ : उपन्यास : 'अरण्य-तंत्र', 'वह/अपना चेहरा', 'उतरती हुई धूप', 'लाल पीली जमीना', 'हुजूर दरबार', 'तुम्हारी रोशनी में', 'धीरसमीरे', 'पांच आँगनोंवाला घर', 'फूल...इमारतें और बंदर', 'कोहरे में कैद रंग' , 'धूल पौधों पर' । कहानी-संग्रह : दस से अधिक । अंतिम पाँच-'पगला बाबा', 'आसमान...कितना नीला', 'हवाबाज़', 'मुझे बाहर निकालो', 'नए सिरे से' । संपूर्ण कहानियाँ : 'निर्झरिणी' (दो खंड)। यात्रा-वृत्त : 'धुंध-भरी सुर्खी' 'दरख्तों के पार...शाम', 'झूलती जड़ें', ‘परतों के बीच', 'और यात्राएँ' । यात्रा-वृत्त : 'रंगों की गंध' (दो खंड) । निबंध : 'साहित्य का संदर्भ, 'कथाभूमि', 'संवाद अनायास', 'समय और सर्जना' । कविता : 'ओ प्रकृति माँ' । चुनी हुईं रचनाएँ (तीन खंड) ।

Scroll