Sach Ke Surya Guru Nanak

Satayendra Pal Singh

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
450.00 383 +


  • Year: 2019

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9788194092162

गुरु नानक साहिब की सबसे विलक्षण श्रेष्ठता थी कि उन्होंने मानव समाज का सामान्य अंग बनकर मानवता को अभिप्रेरित और दिग्दर्शित किया। उनकी सहजता और सरलताइतनी प्रभावी थी कि समाज का परिदृश्य बदल गया। गुरु नानक साहिब ने परमात्मा और सृष्टि के हर उस तत्त्व को प्रकट किया जिसे सदियों से रहस्य के आवरण में ओझल कियागया था। इससे धर्म और परमात्मा पर विशेषाधिकार स्थापित हो गए थे। गुरु नानक साहिब ने लोगों को परमात्मा और धर्म से सीधे जोड़ा। ज्ञान के सूर्य की किरणें निर्बाध रूप सेहर घरहर आंगन में राह बनाने लगीं। जीवन को एक नया आधार मिला। धर्म ही नहीं समाज की कुरीतियां और अंधविश्वास भी ढहने लगे और नई चेतना ने जन्म लिया।

गुरु नानक साहिब की निर्मल और स्पष्ट वैचारिक दृष्टि से हर वर्गहर धर्महर समाज में उनकी स्वीकार्यता स्थापित हुई। रंक से राजा तकनिरक्षर से प्रकांड विद्वान् तक,अधर्मी से धर्मशास्त्री तक सभी उनके अनुयायी बन गए। वे उन सभी के गुरुप्रेरकमार्गदर्शक थे जो समाज में धर्म की प्रतिष्ठा और मानवीय मूल्यों का सत्कार चाहते थे। गुरुनानक साहिब मानव समाज के थे और हैं।

मानव समाज अनेक दुखों में जी रहा था। जैसे आकाश में चमक रहे तारों की गणना नहीं की जा सकती वैसे ही लोगों के दुःख थे। समाज धनी-निर्धनसबल-निर्बलउच्च-निम्न,शासक-शोषितआभिजात्य-वंचित आदि में बंटा हुआ था। ये विभाजन रेखाएं इतनी गहरी और निर्मम हो गई थीं कि लोगों ने उनसे पार पाने के बारे में सोचना भी छोड़ दिया था।इसे नियति मानकर स्वीकार कर लिया गया था। ये सारे विभेद एक तरह से मानव संस्कृति के अंग बन गए थे। यह उसी तरह हो रहा था जैसे किसी ने दिन  देखा हो। वह रात केअंधेरे को ही अंतिम सच मान लेता है। वह तारों से आने वाली रौशनी को ही प्रकाश समझता है और उसी में जीने का अभ्यस्त हो जाता है।

एक रात का यह अंधेरा युगों का सच बन चुका था। अंधेरे से लड़ना संभव नहीं होता। उसे  तो मिटाया जा सकता है भगाया जा सकता है। छोटे-छोटे दीये टिमटिमाते हैं औरबुझ जाते हैं। दीयों की रौशनी से कुछ पल के लिए दिखने लगता है किंतु दृष्टि एक सीमित दायरे में ही सिमटकर रह जाती है। अंधेरे को दूर करने के लिए एक सूरज की आवश्यकताहोती है। गुरु नानक साहब का अवतार लेना ऐसे ही सूरज का उदय था जिसने संसार के सारे भ्रम दूर कर दिए कि अंधेरा सच नहीं है। तारों की रौशनी जीवन के मार्ग को प्रकाशितनहीं कर सकती।

-इसी पुस्तक से

Satayendra Pal Singh

Scroll